06
Feb
10

Aman ka Pujaari

एक दिन छोड़ देगा वो सुबको
भूल जाएगा तो बस यादें
गायब.. कहीं भी जहाँ शोर ना हो ज़्यादा
कहीं भी जहाँ लोग ना हो ज़्यादा

२ रुपए के ख्वाब दिखा के
ज़िम्मेदारियो से दूर जाके
खो जाएगा कहीं वो
अपनी ही दुनिया में वो..

फिर लोग कहेंगे साथ मिलके
साला शराब बहोत पीता था
बातें बहोत करता था
कुछ ज़्यादा ही सोचा करता था.

सपने बड्डे देखता था
हेमेश्ा खुश रहता था
गल्ली मोहले को छोड़के
देश की बातें करता था

एक दिन सरहद पर नही चलेगी गोली
कोई नही खेलेगा तब खून की होली
पागल था वो जो इस दिन का सपना देखता था
अमन का पुजारी था वो,जो कभी नही हारा था….
जो कभी नही हारा था..

लेकिन उस दिन पता नही क्या हुआ
बुरा लगा उसे अपनो की बातों का
सच में छोड़ गया वो जैसे
उसे कभी वापस आना ही नही था……….

Advertisements

0 Responses to “Aman ka Pujaari”



  1. Leave a Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s


Blog Stats

  • 39,226 hits

Enter your email address to subscribe to this blog and receive notifications of new posts by email.

Join 1,277 other followers

Currently Reading

Recently Read

Tweets

Pics

There was an error retrieving images from Instagram. An attempt will be remade in a few minutes.

Posted Matter

February 2010
M T W T F S S
« Jan   Mar »
1234567
891011121314
15161718192021
22232425262728

Top Rated

Blog Adda

Globalization

free counters
Protected by Copyscape Duplicate Content Tool

Top Clicks

  • None

Top Commenters

Powered by Disqus

%d bloggers like this: